रविवार, 11 अप्रैल 2010

आज शाम वक्त मेरे साथ था . ..





आज शाम वक्त मेरे साथ था . 

मैं अपने मित्र तनुसागर के स्टूडियो ''अंतरा '' गया और एक गीत अपनी आवाज़ मे रिकार्ड कराया जिसकी इच्छा मुझे वर्षों से थी..
मेरे साथ मेरे मित्र आमोद जी भी थे जिन्होंने रिकार्डिंग मे सहयोग किया..
तनुसागर ने अपनी रिकार्डिंग और मिक्सिंग प्रतिभा का ऐसा प्रयोग इस गीत मे किया कि मुझे अब इसे सुनते हुए लग रहा है कि मैंने इस गीत को गाकर अपने आतंरिक सौन्दर्य से इसे कुछ और भी मोहक बनाया है..
यह मेरा अनुभव है आप का अनुभव क्या होगा - मुझे नहीं पता ..
यह गीत शर्मीली फिल्म का है .
शशि कपूर ने इस गीत को गाते हुए जितने सुन्दर सम्मोहक दृश्यों का सृजन अपने अभिनय से किया था वैसे सुन्दर सम्मोहक दृश्य का सृजन आज का कोई भी अभिनेता नहीं कर सकता ..
'' कल रहे ना रहे मौसम ये प्यार का.
कल रुके ना रुके डोला बहार का.
चार पल मिले जो आज,प्यार मे गुजार दे.
खिलते हैं गुल यहाँ ,खिल के बिखरने को..........''
आप इसे ज़रूर सुने.. और बताये कैसा लगा आपको ..






----अरविंद पाण्डेय

9 टिप्‍पणियां:

  1. परम आदरणीय सर , प्रतिभाशाली व्यक्ति कोई भी कार्य को करते अपने प्रतिभा से , यह तो आपकी बड़पन है क़ि हमारा नाम लेकर हमको सम्मानित किया है ...बस आपके दिल से डूब कर गाने से ,, जो लग भी सुनेगे , उन्हें भी लग जाएगी , आपकी गायन शैली अनमोल है ...... आवाज की सुन्दरता ... गाने का अंदाज़ ......इतना सारा कार्यो को प्रेम पूर्वक निर्वहन करते हुए .... शायद ही कोई दूसरा व्यक्ति होगा इस दुनिया में , जो थकान मुक्त रहता होगा .....Great Sir.....जय हिंद

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bahut Khub,Sir Ji.....Aap ki versetality ko Sat-Sat NAMAN hai....

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका गायन, मूल गायन के बहुत करीब रहा, आप पूरे दिल से इस गाने को निभाया, सुनना आनंद दे गया :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा । बहुत सुंदर प्रयास है। जारी रखिये ।




    अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानी-संग्रह, कविता-संग्रह, निबंध इत्यादि डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया अपनी हिंदी पर पधारें । इसका पता है :

    www.apnihindi.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैंने गीत सुना. आपकी आवाज़ में कुछ अलग सा मधुर लग रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यार की दुनिया में खुश रहना मेरे यार .
    इस झूठ की नगरी से तोड़ के
    नाता जा मेरे प्यार
    अमर रहे तेरा प्यार
    खुश रहना मेरे यार
    जय हिंद , जय हिंद , जय हिंद ,
    आमोद कुमार
    पाटलिपुत्र , बिहार , हिंदुस्तान

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रणाम !
    आपने बहुत ही खूबसूरती के साथ इस गाने के साथ इंसाफ किये है, आपकी अपनी ऑरिजनल आवाज़ में भी बहुत कर्णप्रिये (pleasant) है ..गाने की मिक्सिंग भी अच्छी की गई है ..!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आमोद सर की बातों से शत-प्रतिशत सहमत हूँ.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय श्रीमान,
    सर्वप्रथम आपको मेरा प्रणाम,
    मैं आपके द्वारा लिखित संस्करण को हमेशा पढ़ता रहा हूँ, लेकिन समय की कमी के कारण अपना कोई विचार व्यक्त नहीं कर पाया | लेकिन मेरा मन हमेशा आपके इन कृतियों के आगे पीछे घूमता रहा | शायद आपको ये एहसास नहीं होगा पर देखते देखते आप कितनो के लिए आदर्श बन गए हैं ,जिनमे ख़ास कर युवा वर्ग | आपका हर एक संस्करण उद्देश्यपूर्ण है और साथ साथ मन के अंदर एक अनूठी और स्वक्ष विचार जगाने का कार्य करता है | आपके द्वारा प्रचलित वाणी ( गर्व से कहो, हम बिहारी हैं) को एक मानक मान लिया गया है और मैंने देखा की बिहार दिवस के अवसर पर भी इस उच्चारण का उपयोग किया गया है | जो की अच्छा लगा |
    मैं सदैव् भगवान् से आपकी सुखद जीवन और अच्छे स्वास्थय की प्रार्थना करता हूँ | कृपा करके आप ऐसे ही लिखते रहें और हम युवा पीढ़ी को सही मार्गदर्शन देते रहें|
    प्रणाम, आपका
    मनीष

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...