शुक्रवार, 3 जून 2011

हरिक लड़की,अगर ताकत है,फिर देवी सी दिखती है.



अकेले वो पडा करता है जो कमज़ोर होता है.
ये जो कमज़ोर,वो लड़की या फिर लड़का नहीं होता.
हमारे मुल्क में ही हैं करोड़ों लडकियां ऐसी .
कि जिनके सामने ''लड़का'' हो पर,''लड़का'' नहीं होता.

हरिक लड़की, अगर ताकत है, फिर देवी सी दिखती है.
अगर ''औरत'' का हो कुछ फख्र,फिर,तकदीर लिखती है.
हरिक चौराह पर लडके उसी का ज़िक्र करते हैं.
हरिक महफ़िल में बस उसकी हसीं  तस्वीर सजती है.

13 टिप्‍पणियां:

  1. हरिक महफ़िल में बस उसकी हँसीं तस्वीर सजती है.
    nice poem
    http://shayaridays.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अच्छी रचना हैं , हरिक ''लड़का'' देवता समान और हरिक "लड़कियाँ" देवी समान होती हैं ...धन्य हैं आपकी यह कविता !!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (04.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:-Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)
    स्पेशल काव्यमयी चर्चाः-“चाहत” (आरती झा)

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज तो "देवी के प्रसाद "सी लग रही है आप की कविता ...
    बहुत सुंदर विचार ..और सुंदर लेखन ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. I request you to please visit my blog and leave your honest opinion .
    thank you.
    http://anupamassukrity.blogspot.com/2011/06/blog-post.html#links

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही बढ़िया ..पढ़ कर मज़ा आ गया !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - अज्ञान

    उत्तर देंहटाएं
  7. aapke ye lekhh sachmuch adutiyeee hai...!!! dhany hai aaap aur ye bhihar ki dhrti...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. अकेले वो पडा करता है जो कमज़ोर होता है...
    अद्भुत .... अभी इसकी सख्त जरूरत थी मुझे ...
    धन्यवाद ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. blog par comment karne k liye bahut bahut dhanyavad apke dwara likhi gayi rachna bahut khoobsurat lagi.

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...