शुक्रवार, 6 नवंबर 2009

मूलतः कुरान भी सभी धर्मों को ईश्वर-कृत ही मानता है...


विश्व के समस्त धर्म, हिन्दू धर्म -- सनातन धर्म की शाखाएँ हैं.
विश्व के सभी लोग मानते है कि ऋग्वेद दुनिया का प्रथम लिखित ग्रन्थ है ..
कुरान में ईश्वर कहते है कि मोहम्मद के पहले जितने देवदूत आये वे सब ईश्वर का ही कार्य करके गए ..

मूलतः कुरान भी सभी धर्मों को ईश्वर-कृत ही मानता है .....
कुरान , सभी धर्मों के देवदूतों को सम्मान देने का आदेश मुसलमानों को देता है ...
किन्तु इस्लाम के नाम पर राजनीति और शासन करने वालों ने इस्लाम का प्रयोग अपने तरीके से किया...

इस्लाम , मूलतः विश्व शान्ति की रक्षा का धर्म है...
आज ईसाई माना जाने वाला अमरीका सारी दुनिया को नष्ट करने लायक हथियार बना चुका है ...
मगर इसका सम्बन्ध ,उसके राष्ट्रपतियों के ईसाई होने से बिलकुल नहीं है है

----अरविंद पाण्डेय

4 टिप्‍पणियां:

  1. आज ईसाई माना जाने वाला अमरीका सारी दुनिया को नष्ट करने लायक हथियार बना चुका है ...मगर इसका सम्बन्ध ,उसके राष्ट्रपतियों के ईसाई होने से बिलकुल नहीं है है...
    बहुत सार्थक विचारणीय तथ्य ...यदि सभी देशों और धर्मों के परिप्रेक्ष्य में देखा जाये तो ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. JI HA BILKUL SAHI KAHA AAPNE ...OR AAJ KI TARIKH ME KAPHI BICHARNIYE VISHAY HAI YE ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह बात बिलकुल सच है ! कुरान से पाक धर्म भी कोई नहीं है ! लेकिन पाकिस्तान ने इसको खिलवाड़ बना के रख दिया है !

    आमोद कुमार

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...