मंगलवार, 26 जनवरी 2010

मैं भारत हूँ, मैं भा - रत हूँ , मैं प्रतिभा - रत ...



 १.
 मैं भारत हूँ, वसुधा   की प्रज्ञा का प्रकाश .
मैं ज्ञान-यज्ञ  की भूमि,प्रणव का पुरोडाश .

परमर्षि भरत ,राजर्षि  भरत  मेरे सुपुत्र .
जिनके चरित्र का स्मरण,चित्त करता पवित्र .

मैं  भरत  नाम के  दो  पुत्रों से, हूँ भारत .
मैं भारत हूँ, मैं  भा- रत  हूँ , मैं प्रतिभा - रत


2
मैं युद्धभूमि के मध्य,  ज्ञान का दाता हूँ .
मैं महानाश के क्षण का सृजन-विधाता हूँ.

मैं अग्निकुंड से शशिमुख - रमणी प्रकट करूं
मैं शशि-शीतल भ्रूमध्य-विन्दु से अग्नि झरूँ .

मैं घटाकाश का महाकाश में विलय करू..
मैं भारत हूँ , नव-सृजन हेतु मैं  प्रलय करूं...

क्रमशः 
=================

आप सभी को गणतंत्र दिवस की शुभ कामनाएं..
आपके लिए मैंने ये कविता लिखी है
..
महाशक्ति बन रहे अपने पड़ोसी
के साथ नियति द्वारा ली जाने वाली परीक्षा निकट भविष्य में ही होनी है..

आइए हम सभी उसकी भी तैयारी करें.

कल मेरे प्रिय मित्र आमोद  जी ने मुझे मेरे जन्म दिन के अवसर पर
एक सुन्दर सुनहरी कलम का दान किया..

वैसे मैं जन्म दिन पर ईश्वर का विशेष ध्यान  करता हूँ  ..
कोई औपचारिक कार्यक्रम नहीं करता..
और  मैं उपहार के रूप में या अन्य किसी भी रूप में कभी कोई वस्तु स्वीकार नहीं करता क्योकि
मुझे अखंड विश्वास है कि ली हुई वस्तु अनिवार्य रूप से दाता को देनी पड़ती है..

किन्तु कलम और वह भी भारत-भक्त आमोद जी के द्वारा प्राप्त -- मैं अस्वीकार न कर सका ..
ये ऋण चुकाने का भावी दायित्व मैंने स्वीकार किया ..

उसी कलम से यह कविता मैंने लिखी..
''मैं भारत हूँ, मैं  भा- रत  हूँ , मैं प्रतिभा - रत''

मुझे यह संक्षिप्त लेखन अति प्रिय लगा ..
आपको कैसा लगा --कृपया ब्लॉग पर टिप्पणी लिखना न भूलियेगा ..

----अरविंद पाण्डेय

42 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी कविता ने ना सिर्फ़ भारत शब्द का शब्दिक अर्थ बताया है अपितु इसकी व्युत्पत्ति और अविर्भाव से भी दो-चार करवा दिया...
    बहुत ही सारगर्भित रचना...
    आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  2. भारत को नमन ....भारत के इस सच्चे सपूत को नमन ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं घटाकाश का महाकाश में विलय करू..
    मैं भारत हूँ , नव-सृजन हेतु मैं प्रलय करूं...

    bahut sunder , sunder geet , bahut-2 badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी कविता बहोत ही सुंदर है।
    पर आपके विचार...
    ... महाशक्ति बन रहे अपने पड़ोसी
    के साथ नियति द्वारा ली जाने वाली परीक्षा निकट भविष्य में ही होनी है..
    आइए हम सभी उसकी भी तैयारी करें..
    ये जब होगा जब हमारा देश और देशवासी धर्म, रंग मज़हब के भेदभाव को हमारे बिच न आनें दें फ़िर क्या मज़ाल कोई हमारे वतन पर नजर तक डाले।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय सर,
    आपने हमारे कलम को स्वीकार किया , उसके लिए मैं ईश्वर का बहुत आभारी हूँ |
    मेरा ऋण तुरंत चुक जायेगा जैसे ही आप लता जी की गायी गए वो गाना " ये मेरे वतन के लोगो जरा आँख में भर लो पानी जो शहीद हुए है ........." आपने सुर में गा देंगे , उसके तुरंत बाद आपका ऋण हम पर हो जायेगा
    आमोद कुमार
    जय हिंद , जय भारत भक्ति, जय श्री अरविंद पाण्डेय

    उत्तर देंहटाएं
  6. सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है !!!!!!!!!
    जय हिंद , जय हिंद की सेना, जय भारत भक्ति, जय श्री अरविंद पाण्डेय

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब जननी के हो ऐसे लाल, फिर आएगा वो सुप्रभात !
    वो वक्त आएगा जब, फिर दोहराएंगे हम अपना इतिहास !!
    बहुत खूब आपने बहुत अच्छा लिखा है !

    उत्तर देंहटाएं
  8. Jai Hind, Arvind ji mujhe garv hai ki ham bharat ke hai bihar ke un mitty mai janme jahaa gautam budh bhagwan ke charan pare hai mai bhiy khusnasib hu dharti maa ke jai hind jai bharat

    jai bihar..........

    उत्तर देंहटाएं
  9. Jai Hind, Arvind ji mujhe garv hai ki ham bharat ke hai bihar ke un mitty mai janme jahaa gautam budh bhagwan ke charan pare hai mai bhiy khusnasib hu dharti maa ke jai hind jai bharat

    jai bihar..........

    उत्तर देंहटाएं
  10. Jai Hind, Arvind ji mujhe garv hai ki ham bharat ke hai bihar ke un mitty mai janme jahaa gautam budh bhagwan ke charan pare hai mai bhiy khusnasib hu dharti maa ke jai hind jai bharat

    jai bihar..........

    उत्तर देंहटाएं
  11. Jai Hind, Arvind ji mujhe garv hai ki ham bharat ke hai bihar ke un mitty mai janme jahaa gautam budh bhagwan ke charan pare hai mai bhiy khusnasib hu dharti maa ke jai hind jai bharat

    jai bihar..........

    उत्तर देंहटाएं
  12. Jai Hind, Arvind ji mujhe garv hai ki ham bharat ke hai bihar ke un mitty mai janme jahaa gautam budh bhagwan ke charan pare hai mai bhiy khusnasib hu dharti maa ke jai hind jai bharat

    jai bihar..........

    उत्तर देंहटाएं
  13. Bahut achhi kavita hai. Jai Bharat Bahut bahut badhaiyan

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप हमारे गौरव है , भारत हमारी माता है ,
    भारत के हर एक एक आदमी आपनी माँ के लिए अपना एक एक कतरा खून का लगाकर चीन को धुल चटा देगा
    जय हिंद , जय भारत माता , जय अरविंद पाण्डेय
    गोलू

    उत्तर देंहटाएं
  15. Respected Shree Aravnid Pandey jee,
    SIR IF THE PERSON LIKE YOU ARE IN INDIA THEN NO ONE WILL TRY TO TOUCH US.
    JAI HIND, JAI HIND, JAI HIND

    उत्तर देंहटाएं
  16. apka blog bahut hi achcha laga, aapki kavita ne pure tarah se hamare soye hue desh prem ko jaga diya hai, dhanya hai aap jo sabhi bhaarat ke saput ko jaga diya hai.
    aapko bahut bahut pranam sir.
    arun kumar

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी कविता ने ना सिर्फ़ भारत शब्द का शब्दिक अर्थ बताया है अपितु इसकी व्युत्पत्ति और अविर्भाव से भी दो-चार करवा दिया...
    बहुत ही सारगर्भित रचना...
    आभार..
    BISHNU SHANKAR

    उत्तर देंहटाएं
  18. परम आदरनीय श्री पांडेय साहब ,
    जो हमसे टकराएगा चूर चूर हो जायेगा , हम सब आपके साथ है ..
    एकता की जीत है ....
    जय हिंद, जय भारत माँ
    एकता कुमारी

    उत्तर देंहटाएं
  19. AAPNE HUM SAB KA MAAN BADHAYA HAI AAPKA GAYA HUA GEET HUM SAB KHOOB SUNTE HAI.
    AAB BAS INTJAR HAI US GEET KA JO LATA JEE NE GAYEE HAI.
    AAPNE SABHI SOTE HUE KO JAGA DIYA HAI SIR.
    JAI MAA BHARAT...
    SANJAY KUMAR

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैं भरत नाम के दो पुत्रों से, हूँ भारत .
    मैं भारत हूँ, मैं भा- रत हूँ , मैं प्रतिभा - रत
    YOU ARE REALLY GREAT
    THANKS,

    उत्तर देंहटाएं
  21. NAMAN KARTA HU BHARAT KO
    NAMAN KARTA HU BHARAT KE VEER SAPUT KI
    THANKS TO SRI ARVIND JEE
    RAGINI,PATNA

    उत्तर देंहटाएं
  22. ALL WILL FIGHT FOR INDIA. YOUR POEM IS VERY VERY GOOD

    उत्तर देंहटाएं
  23. ALL WILL FIGHT FOR INDIA. YOUR POEM IS VERY VERY GOOD

    उत्तर देंहटाएं
  24. ये पंक्ति बहुत ही...... सुंदर पंक्ति है

    उत्तर देंहटाएं
  25. भारत को नमन ....भारत के इस सच्चे सपूत को नमन ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. जब जननी के हो ऐसे लाल, फिर आएगा वो सुप्रभात !
    वो वक्त आएगा जब, फिर दोहराएंगे हम अपना इतिहास !!
    बहुत खूब आपने बहुत अच्छा लिखा है !

    उत्तर देंहटाएं
  27. Visited you today. Keep sharing the contents. Nice going. All the best.

    उत्तर देंहटाएं
  28. i'm very much sure about this that under the guidance of great personality like you india become a superpower.sari dunia me bharat ne humesa se ek maryada esthapit ki hai...so,yakin hai ki agar hum apni culture or aadarson ko na bhulen to nissandeh sari duniya hume salalm karegi...
    maine aapki kitab ka aawran dekha...feb1st week me patna aate hi mai sabse pahle wo pustak kharidunga......jai hind,jai bihar...

    उत्तर देंहटाएं
  29. i'm very much sure about this that under the guidance of great personality like you india become a superpower.sari dunia me bharat ne humesa se ek maryada esthapit ki hai...so,yakin hai ki agar hum apni culture or aadarson ko na bhulen to nissandeh sari duniya hume salalm karegi...
    maine aapki kitab ka aawran dekha...feb1st week me patna aate hi mai sabse pahle wo pustak kharidunga......jai hind,jai bihar...

    उत्तर देंहटाएं
  30. bahut hi marmik aur bhawukta hai aapme, bahut achchi lagi.
    dhanyabad
    Madhuri Sinha

    उत्तर देंहटाएं
  31. भारत के इस सच्चे सपूत को बार-बार नमन !!!!जय हिंद , जय भारत .!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. मैं अग्निकुंड से शशिमुख - रमणी प्रकट करूं
    मैं शशि-शीतल भ्रूमध्य-विन्दु से अग्नि झरूँ .

    Anupam Arvind ji! great, I don't have words to praise at.

    उत्तर देंहटाएं
  33. Hume bharat par garv hai...is desh ke nivasi hone ke karan hum sab bharatvanshi kehlate hai......

    Yeh toh hamare purvajo ( Bharat) ke hi ache karm hai jinhone hume azaadi se jina sikhaya hai.

    Sir aapne is kavita ke madyam se humare mann mein is dest ke & iske purvajo ke prati jo sneh tha usko ujagar kar diya hai....Aapka shat shat naman......Dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
  34. VERY GOOD WE ALSO PROUD TO BE SAY INDIAN BECAUSE OF YOU TYPE OF PERSONS IN INDIA.
    THANKS TO THE GREAT LOVER

    NAWAL PRASAD JHA
    MUJAFFARPUR

    उत्तर देंहटाएं
  35. आपने सच्चे भारतीय होने का प्रमाण दिया है अपने
    भावों को भाषा का जामा पहिना कर|बहुत सुन्दर |
    मेरी शुभ कामनाओं के साथ |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  36. आपका ब्लॉग का लेखन अति प्रिय लगा , आप तो भावुक व्यक्ति है , आपके प्यार को देखकर बहुत ख़ुशी हुई .......R . K. SINHA, PATNA

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...