शुक्रवार, 11 नवंबर 2011

देवता के चरण-कमलों पर, स्वतः ही झर रहा हूँ.



पूर्णिमा - परिरंभ से मधुरिम बनी इस यामिनी में,
आज अम्बर में, किरण बन, संतरण मैं कर रहा हूँ.
युग-युगांतर से गगन जो शून्य बन,अवसन्न सा था,
आज उसकी रिक्तता, आनंद से मैं भर रहा हूँ.


पवन-पुलकित पल्लवों के बीच हंसते कुसुम सा मैं,
देवता के चरण - कमलों पर, स्वतः ही झर रहा हूँ.
अब सहस्रों सूर्य , तारक , चन्द्र मेरे रोम में हैं,
था अभी तक रुद्ध,पर,स्वच्छंद ,अब ,मैं बह रहा हूँ.


-- अरविंद पाण्डेय 

4 टिप्‍पणियां:

  1. अब सहस्रों सूर्य , तारक , चन्द्र मेरे रोम में हैं,
    था अभी तक रुद्ध,पर,स्वच्छंद ,अब ,मैं बह रहा हूँ.
    सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...