शनिवार, 17 सितंबर 2011

तेरी रहमत,मेरी आँखों से दिल में यूँ उतरती है

श्री राधा म्रदुभाषिणी मृगदृगी  माधुर्यसन्मूर्ती थीं .
''प्रियप्रवास'' महाकाव्य में श्री अयोध्या सिंह उपाध्याय ' हरिऔध'
-------------------------------------


तेरी रहमत,मेरी आँखों से दिल में यूँ उतरती है 

कि जैसे शम्स की किरनें उतरती हैं खलाओं में .
कि जैसे खुश्क मौसम में कोई राही परेशां हो,
मगर,बस यूँ अचानक,इत्र घुल जाए हवाओं में.
कि जैसे आसमां में हो कोई आवारा सा तारा .
मगर मिल जाए उसको ताज कोई कहकशाओं में 

तेरी रहमत , मेरी आँखों से दिल में यूँ उतरती है ,
कि चिड़िया का कोई बच्चा ज्यूँ हो माँ की पनाहों में.


अरविंद  पाण्डेय  

2 टिप्‍पणियां:

  1. कि जैसे शम्स की किरनें उतरती हैं खलाओं में .
    कि जैसे खुश्क मौसम में कोई राही परेशां हो,....

    क्या बात है ......

    कि जैसे आसमां में हो कोई आवारा सा तारा .
    मगर मिल जाए उसको ताज कोई कहकशाओं में

    सुभानाल्लाह ....!!

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...