मंगलवार, 30 अगस्त 2011

अल्लाह की नेमत से हर इक सांस मेरी ईद.

अलहम्दु लिल्लाहि रब्बिल आलमीन .
.
अलिफ़ लाम मीम 

सर्वेश्वर, बस तुम्हीं प्रणम्य.
-----------------------------

हर शब ही शब-ए-कद्र सी आती है मेरे पास.
अल्लाह की नेमत से हर इक सांस मेरी ईद.

हिन्दू  हो, मुसल्मां  हो, ईसाई  या   यहूदी .
हर  शख्स  को  ईमान  सिखाती है मेरी ईद.

शुभ शुक्र हो, होली हो , दिवाली हो या पोंगल,
इंसान की खुशियों में ही मनती है मेरी ईद.

मज़हब मेरा इस्लाम , मुसल्मां है मेरा नाम.
हंसते हुए बच्चे में, पर,  हंसती है  मेरी  ईद.

जब दिल में दूरियां हों, मज़हबों में दुश्मनी .
फिर, अम्न का इक चाँद ले आती है मेरी ईद

तुमको भी अगर इश्क की ख्वाहिश हो मेरे दोस्त.
आना  मेरे  घर ,  तुमको  बुलाती  है मेरी ईद.

-- अरविंद पाण्डेय 

5 टिप्‍पणियां:

  1. Diwali mian ali base ram base ramzan
    Aisa hona chahiye apna hindustan.


    Eid Mubarak

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ शुक्र हो, होली हो , दिवाली हो या पोंगल,
    इंसान की खुशियों में ही मनती है मेरी ईद.
    बहुत सुंदर भाव से मन रही है ईद ..
    बहुत सुंदर रचना ...
    shubhkamnayen...!!

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...