शनिवार, 30 जुलाई 2011

किया संतरण सतत शून्य में,मिला न यात्रा-पथ का छोर.


भासस्तस्य महात्मनः 

दुनिया के युद्धों से थक कर, कल मैं उड़ा गगन की ओर.
किया संतरण सतत शून्य में,मिला न यात्रा-पथ का छोर.
महासूर्य का लोक दिखा फिर, देश-काल था जहाँ अनंत.
बस,प्रकाश का एकमेव अस्तित्व,तमस का अविकल अंत.

स्वप्रकाशमानंदं ब्रह्म .. 

कुरुक्षेत्र में विराटरूप दर्शन में अर्जुन ऩे श्री कृष्ण को देखा था - मानों आकाश में करोड़ों सूर्य एक साथ उदित हो उठे हों..जय श्री कृष्ण..वैज्ञानिकों को अंतरिक्ष में एक ऐसे प्रकाश-पुंज का संकेत मिला है जो हमारे सूर्य से १४० अरब गुना बड़ा हैं एवं जिसका प्रकाश, हम तक आने में, १४० अरब प्रकाश वर्ष का समय लगता है..


अरविंद पाण्डेय

3 टिप्‍पणियां:

  1. भगवान श्री कृष्ण के कुरुक्षेत्र में विराटरूप के साथ कविता में प्रकाश का समायोजित करते हुए अति सुंदर वर्णन हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. विराट स्वरूप का सुन्दर चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi gahrai ke sath or kafi sadharan sabdon me apne kafi bari baat samjha dali......itni gahrai ke sath itni samajh wali baat or lajawab panktiyon ke sath........apki kavitaien or apke vichar hila kar rakh denge kisi ko bhi jo inko padh kar vichar kare....jai ho

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...