शनिवार, 23 जुलाई 2011

मैं देव और पशु साथ साथ, मैं हूँ मनुष्य .


ॐ.आमीन .
मै  अणु बनता हूँ कभी ,कभी  बनता विराट .
अनुभव करता परतंत्र कभी,  बनता  स्वराट.
मैं कभी क्रोध-प्रज्वाल, कभी श्रृंगार शिखर ,
मैं नियति-स्वामिनी का बस हूँ सेवक,अनुचर.

 मैं देव और पशु साथ साथ, मैं  हूँ  मनुष्य .

अरविंद पाण्डेय

4 टिप्‍पणियां:

  1. सब समय समय पर प्रस्तुत हो जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. "देव मनुष्य और पशु" को प्रभाषित करती बहुत ही उत्कृष्ट कोटि की रोमांचक कविता हैं......

    उत्तर देंहटाएं
  3. gun -avgun se bhara man ...sach me ..lagata hai manushya hi prabhu ki sabse priya kriti hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. apke vicharon or apki kirtiyon ko sabdon ki simaon me bandhne ka sahash mughme nahi hai....aap har vishaya par likhte hain or kahin se bhi apki kavitaon or vicharon me koi kami nikalna ashambhav lagta hai mughe 2.manusya sansaar ki sarwotam kirti hai or in manushyon me bhi wo mahan hota hai jo ki bhavon se bhara hota hai...jaise ki aap.....aap karamarishi hain jo hum sabka humesa har kadam pe margdarshan karte hai........kafi kuch sikhne ko milta hi sabko humesa......aapki har nai blog or geet ka humesa intzaar rahta hai.........apki kavitaon me bhasha ki sarlta or sahajta kamal ki hai...

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...