सोमवार, 11 जुलाई 2011

मुक्त आज मैं, जीवन की प्रतिकूल वेदनाओं से,


हृदय बना है सेतु आज जिस पर अम्बर से आकर.
चन्द्र, सूर्य, तारक आनंदित, धरा-भ्रमण करते हैं.
मुक्त आज मैं, जीवन की प्रतिकूल वेदनाओं से,
संसीमित यह तन,असीम का अमृत-भोग करता है.

अरविंद पाण्डेय

4 टिप्‍पणियां:

  1. प्रत्येक व्यक्ति को जीवन की प्रतीकूल वेदनाओं से मुक्त रहना ही चाहिए , बहुत ही छोटी सी हृदय स्पर्ष करती सुंदर कविता हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन का यह आनन्दित हल्कापन अलब्ध है अभी तक।

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...