रविवार, 5 जून 2011

हर लाठी जो सत्याग्रह पर चलती,गांधी को लगती है.


फिर भी, तुमने हमसे डर कर ,
हिंसा का कहर उतारा है.
===================



इतिहास साक्षी है इसका ,
सत्ता की लाठी से अक्सर, 
जागा करता है शेष-नाग,
होकर, पहले से और प्रखर .


पर, हर भ्रष्टाचारी खुद को,
बस अपराजेय समझता है.
लाठी-बंदूकों के बल पर 
उठ कर, मिट्टी में मिलता है.


जो संविधान स्वीकार किया 
था हम भारत के लोगो ऩे.
उसको ही लाठी से घायल 
है किया,निडर,फिर से,तुमने.


हर लाठी जो सत्याग्रह पर 
चलती ,गांधी को लगती है.
गांधी जब घायल होता है,
भारत की आत्मा जगती है.


तुमने तो अब अनजाने ही ,
सोए भारत को जगा दिया.
अब तुम्हें भगा, दम लेगें हम,
अंग्रेजो को ज्यूँ भगा दिया.


भारत के पैसों को जब तुम,
स्विस बैंकों में रख आते हो.
हम उसे माँगने निकले हैं,
तो हमको ही धमकाते हो  .


हमने तुमसे अनुमति लेकर ,
सत्याग्रह था प्रारम्भ किया.
जब तुम इतना डरते थे,फिर,
दिल्ली क्यूँ आने हमें दिया.


जब शस्त्र-हीन सम्मलेन का  ,
मौलिक अधिकार हमारा है.
फिर भी, तुमने हमसे डर कर ,
हिंसा का कहर उतारा है.

दुनिया के देशो से भारत
 जो  कर्ज़ मांगता फिरता है .
तब , तुम जैसे गद्दारों के ,
चेहरों  पर फूल महकता है.


तुम लाठी गोली रखते हो ,
हम अपना सीना रखते है.
रौंदों जितना तुम रौंद सको,
है शपथ तुम्हें, हम कहते हैं.

सीने पर गोली अगर चली ,
वह लौट तुम्हीं को छेदेगी
अपना सीना लोहे का है,
गोली अपना क्या कर लेगी.

अब देख, भयंकर शेषनाग 
से भारत ने  ललकारा  है -
जो धन रक्खा स्विस बैंकों में,
वह सारा, सिर्फ हमारा है.


-- अरविंद पाण्डेय 

30 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (6-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. ईश्वर इन्हें सदबुद्धि दे !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अति उत्कृष्ट बहुत ही भावपूर्ण सुंदर कविता हैं .......

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओज पूर्ण शैली में लिखी सार्थक चेतावनी ...अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. Thanks for sharing with an awesome presentation.Hope, its theme will serve as a becon light to those who are averse to it.

    उत्तर देंहटाएं
  6. Thanks for sharing with an awesome presentation that will serve as a beckon light to those who are averse to it.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरबिन्द सर, आपकी उर्पयुक्त कविता सदैव प्रेरणा देती रहेगी
    और आज के दिन तो और भी .....
    बहुत ही भावपुर्ण प्रसंग का बहुत ही कुशलता से वर्णन
    किया है, आपने ....बांटने के लिए धन्यवाद....//

    उत्तर देंहटाएं
  8. हर लाठी जो सत्याग्रह पर
    चलती ,गांधी को लगती है.
    गांधी जब घायल होता है,
    भारत की आत्मा जगती है.

    जो भाव मेरे अंतस में सुबह से उमड़ - घुमड़ रही थी वो इन पंक्तियों में पढने को मिल गया .....
    आभार ---आइन्स्टीन कुंवर ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. ओज से भरपूर सुंदर कविता ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. पर, हर भ्रष्टाचारी खुद को,
    बस अपराजेय समझता है.
    लाठी-बंदूकों के बल पर
    उठ कर, मिट्टी में मिलता है.

    सत्य वचन!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर अभिवक्ति ......

    बेचारी जनता अति विश्वास के
    साथ अपने प्रतिनिधि को चुनती है ये आशा के साथ
    को वह उनकी समस्याओ को सुनेगा और इसके समाधान का प्रयत्न
    करेगा लेकिन जब उसे मालूम होता है की वो ठग है तो बेबस,लाचार
    होकर वैसे चरण में शरण लेता है जहा उसे कुछ उम्मीद की किरण
    दिखाई देती है.लेकिन यहाँ भी ये बर्बर सरकार उसका पीछा नहीं छोडती
    उल्टा आन्दोलन कर रहे उस सज्जन में ही खामिया निकलने लगती है .
    उसके चरित्र,धन-सम्पति आदि.और इस तरह से सरकार मुद्दा से लोंगो का ध्यान
    हटा देती है.मै पूछता हूँ क्या ब्याक्तिगत मामले को बाद में नहीं निपटाया जा सकता.
    जो मुद्दा है उस पर ही सरकार को बात करनी चाहिए थी.लेकिन सरकार ऐसा नहीं
    कर रही है क्योंकि वह खुद इसमें लिप्त है....हमें किसी तरह से इस आन्दोलन को
    आगे बढ़ाना होगा क्योंकि ऐसा समय बार बार नहीं आता..

    उत्तर देंहटाएं
  12. भारत माता की जय ! आपके इस भाव ने ह्रदय में एक अजीब सा कोल्हाल मचा दिया है |
    " दीपक जलाना तो इक बहाना था,
    वो तो हवाओं को आजमाना था | "
    यही दीपक को रामदेव जी ने जला दिया है और उनके इस सत्याग्रह में हम युवक हर इक पग पर उनके साथ हैं.
    जय बिहार ! जय बिहार भक्ति |
    धन्यवाद
    आपका मनीष

    उत्तर देंहटाएं
  13. सभी देश भक्त सज्जनों को धन्यवाद एवं प्रणाम ... कृपया इस कविता को अधिकाधिक लोगो तक भेजें जिससे ये मालूम हो कि इस देश में सरकारी सेवक इस घटना के बारे में क्या सोचते हैं और कविता के माध्यम से कैसी अभिव्यक्ति कर रहे हैं... यह देश एक अरब से अधिक ईमानदार भारतीयों का है ..

    और सभी भारतीयों की समवेत घोषणा है :

    जो धन रक्खा स्विस बैंकों में,
    वह सारा, सिर्फ हमारा है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 07- 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  15. ... good presentation , written in full force with meaningful warnings........with inspirational values . I liked your style as always .... what is this called.. I think "वीर रस कविता".....but....
    I did not like this stanza...
    "तुम लाठी गोली रखते हो ,
    हम अपना सीना रखते है.
    रौंदों जितना तुम रौंद सको,
    है शपथ तुम्हें, हम कहते हैं."

    I believe in "One Bullet -One Enemy"
    Once my conscious says they are wrong and my wisdom declared them enemy . I wont allow them to pump bullet on me...rather I kill them .
    This kind of temperament is needed today.Today's answer is Bhagat Singh and Chandrashekhar Azad.

    उत्तर देंहटाएं
  16. Thanks all ..kripaya forward this link to all Bhaaratiy...
    aur, ye dono chhand ek saath padhen...

    तुम लाठी गोली रखते हो ,
    हम अपना सीना रखते है.
    रौंदों जितना तुम रौंद सको,
    है शपथ तुम्हें, हम कहते हैं.

    सीने पर गोली अगर चली ,
    वह लौट तुम्हीं को छेदेगी
    अपना सीना लोहे का है,
    गोली अपना क्या कर लेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेहतरीन...शायद आँखें खुलें.

    उत्तर देंहटाएं
  18. 'हर लाठी जो सत्याग्रह पर

    चलती, गाँधी को लगती है

    गाँधी जब घायल होता है

    भारत की आत्मा जगती है '

    .....................सशक्त पंक्तियाँ

    ..........ओजपूर्ण , जन को जागृत करने में समर्थ , बेईमान सत्ताधीशों की असलियत बयाँ करती प्रभावशाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. ह्र्दय से निकली ,भविष्य के प्रति चिन्तित ,ओज पूर्ण शैली में सार्थक रचना……. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत प्रभावी रचना .. पर ये सरकार जो दामन की नीति पर चल पड़ी है ... कभी नही जागेगी ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. जिस तरह आज एक शांतिपूर्ण तरीके से चल रहे आंदोलन को कुचला गया, वह शर्मनाक है। आज मुझे यह कहने में तनिक भी गुरेज नहीं है कि अगर यही लोकतंत्र है, तो इस से बेहतर गुलामी का समय रहा होगा। दुनिया के सबसे बडे लोकतंत्र की सरकार खुद को जनता की, और दुनिया की नजरों में इतना गिरा देगी, आज से पहले कोई सोच भी नहीं सकता था। Shame, Shame... आज शर्म आती है खुद को भारतीय कहने में... महात्मा गाँधी की धरती पर आज कुछ भारतीयों की सरकार ने वह कर दिखाया, जो करने से पहले अंग्रेज भी दस बार सोचते....

    उत्तर देंहटाएं
  22. हर लाठी जो सत्याग्रह पर
    चलती ,गांधी को लगती है.
    गांधी जब घायल होता है,
    भारत की आत्मा जगती है.

    ....विचारों को उद्वेलित कर देनेवाली बहुत प्रेरक और सशक्त रचना..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  23. सीने पर गोली अगर चली ,
    वह लौट तुम्हीं को छेदेगी
    अपना सीना लोहे का है,
    गोली अपना क्या कर लेगी...



    इस चेतावनी को समय रहते सुन और गुन ले सत्ता तो फिर भी अपने को बचा सकती है...नहीं तो इसका पतन तो निश्चित है...

    बहुत ही सार्थक रचना...साधुवाद !!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. It is really a heartening poem extemporized just after attrocities to Baba Ramdev,particulary by an brave IPS officer like you. Kudos to you sir!! We shall over come one day....oh deep in my heart , i do beleive ....
    -pallav

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपकी यह कविता बहुत सर्द और शान्त शब्दों में चेतावनी देती सी प्रतीत होती है। समसामयिक भारत की एक अजीब स्थिति का यह एक यथार्थ चित्रण है। इसके लिए आपको साधुवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  26. हम भारतवासी यह कहते हैँ कल का भारतवर्ष हमारा है। पर समय कहता है हर वासी को, जागो वरना यह किसी और का है।

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...