रविवार, 7 नवंबर 2010

मेरी बहन ! मैं बहुत दूर हूँ मगर, फिर भी ..

भैया दूज : भ्रातृ-द्वितीया:

मेरी बहन ! मैं बहुत दूर हूँ मगर, फिर भी,
तेरे करीब मेरी रूह पहुँच जाती है.
किसी को याद करूं या न कर सकूं लेकिन,
हरेक पल तेरी दुआ की  याद आती है.

तेरे रुखसार से रुखसार मेरा मिलता है,
तेरे रुख़ से ही मेरा रुख़ भी बदल जाता है.
तेरी नज़र ही मेरी बद-नज़र मिटाती है,
मेरा दिल भी तेरे ही दिल की तरह गाता है.
-------------------------------

I Bow to My Sisters today and Dedicate these lines in their honor who prayed at the time when I was being Interviewed in a Room of UPSC , Delhi.. and , Their pure prayers were accepted .. 

I came out of the Interview room as an IPS officer in first Attempt.!!


-- अरविंद पाण्डेय 

11 टिप्‍पणियां:

  1. It is a lovely tribute to the most loving sister paid by her most worthy brother who is known for his passion & wisdom on the eve of Bhaiya-duj. It's very well composed poem with very meaningful thoughts. Let me join to pay my humble tribute to my sisters who are very caring to us on this auspicious eve!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अति सुंदर रचना ...आज एक बहन का सर गर्व से ऊँचा है . आपका प्यार हमारे समीप ही है..और ऐसा लगता है की आपका हाथ इस वक़्त भी मेरे सर पर है

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bhaidooj mubarak ho bhaiya.. sabhi beheno ki duaayein aapke saath hain. Hamesha.

    उत्तर देंहटाएं
  4. तेरे रुखसार से रुखसार मेरा मिलता है,
    तेरे रुख़ से ही मेरा रुख़ भी बदल जाता है.
    तेरी नज़र ही मेरी बद-नज़र मिटाती है,
    मेरा दिल भी तेरे ही दिल की तरह गाता है.

    सुन्दरतम! अद्भुद! अनिर्वचनीय!... कोई शब्द नहीं जो इस रचना का मूल्य आँक सके ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. AWESOME Aravindji,every sister will be proud and honoured to have you as their brother.

    उत्तर देंहटाएं
  6. Sabse pehle aapko Bhai dooj ki best wishes... Apki yeh behen aapki lambi umar aur nirantar unnati ki kamna karti hai..
    ek behen ke liye iss se badi baat kuch nahi ho sakti ki itne salon ke baad bhi aap unke dua ka asar mehsoos karte hain.
    A touching feeling indeed.... Thanks once again

    उत्तर देंहटाएं
  7. Adbhut.......aap ki rachnaain sahraaniyae hain..atee sunder..aashu karta hu aap yun he likhtain rahain...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहनों की दुआएं ऐसी ही बनी रहे ...!

    उत्तर देंहटाएं
  9. परम आदरणीय सर , भाई बहन के प्यार में आपके द्वारा लिखी गयी यह पंक्ति ["तेरे रुखसार से रुखसार मेरा मिलता है"], बहुत ही भावुक हैं ....जय हिंद !!!!!

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...