रविवार, 18 अक्तूबर 2009

आओ कुछ दीप-पुंज , ऐसा प्रज्ज्वलित करें ,

ऋषियों के ज्ञान के प्रकाश में ,

आओ कुछ दीप-पुंज ,

ऐसा प्रज्ज्वलित करें ,

जो इस धरती माँ का ,

घना अन्धकार हरे ...



----अरविंद पाण्डेय

6 टिप्‍पणियां:

  1. bhahman ko aalokit kerne ka suvichaar ,rihsiyon ke gyan punh se, bahut khub!anukerniya

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिवाली की समस्त शुभकामनाएं पुरे परिवार को ...


    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  3. CONGRATULATIONS ON OPENING OF UR BLOG !!!!!!!!!!!

    ऋषियों के ज्ञान के प्रकाश में ,

    आओ कुछ दीप-पुंज ,

    ऐसा प्रज्ज्वलित करें ,

    जो इस धरती माँ का ,

    घना अन्धकार हरे

    BAHUT KHUB ...bahut hi sundar rachna se shuruaat hui hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभ हो ...शुभ दीपावली ...
    बहुत लम्बे अन्तराल के बाद ब्लॉग अपडेट है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरनिये,
    आपके द्बारा सृजित रचना और कला संसार को पढ़ी और देखी, अत्यंत प्रसन्नता हुई| कर्म, योग, साहित्य, कला, आदि का समायोजन और प्रतिपालन आप उत्कृष्टता से करें, बहुत शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  6. aapki iss nek aur paavan
    prarthanaa mein
    hm sb bhi shaamil hain
    a s t u

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...