बुधवार, 7 जनवरी 2009

सारा कश्मीर हमारा है--कारगिल-युद्ध के समय लिखित





हमने समझा दोस्त उन्हें
वे दुश्मन हमें समझते हैं
नही फिक्र है उन्हें अमन की
बारम्बार उलझते हैं ।


जब जब हमने हाथ मिलाया
उनसे सरल दोस्त बनकर
तब तब उनने घात किया है
सदा पीठ पीछे हम पर ।

नही याद है उन्हें इखत्तर
का वह अमर युद्ध - संदेश
जो टकराएगा हमसे
हो जायेगा वह खंडित देश ।


क्षमा किया था हमने उनको
धूल चटाने के ही बाद
यही सोच कर कि अब उन्हें
आयेगी बुद्धि , न हों बरबाद ।


पर उनकी तो बुद्धि भ्रष्ट है
चढ़ आए फ़िर सीमा पर
फ़िर ललकार रहे हैं हमको
विगत पराजय विस्मृत कर ।


विश्व-शाँति अब रहे सुरक्षित -
यही सोच कर हम सबने
संयम से संघर्ष किया है
बलि दी हैं कितनी जानें।

न लो परीक्षा अब वर्ना,
इच्छा सुन लो यह जन जन की
मिट जाए वह झूठी रेखा
वर्षों पूर्व विभाजन की ।




सौ करोड़ कंठों ने अब यह 
घोर नाद हुंकारा है

कारगिल से गिलगित तक
सारा कश्मीर हमारा है । 

----अरविंद पाण्डेय

5 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. shaandaar aur ojasvi kavitaa. aapki lekhni aur maa bhaarti kaa vaibhav amar rahe. shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  3. XLENT . MANO MAA BHARATI KI PURI UDGAR AAPNE KUCHH PANKTIYON ME VYAQT KAR DIYA . KRIPYA ISI TARAH HUM YOUNG POLICE OFFICER KE PRERNA KI SHROT BANE RAHE. JAIHIND

    उत्तर देंहटाएं
  4. कारगिल से केरल तक सारा भारतवर्ष हमारा है !
    आमोद कुमार

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...