सोमवार, 29 दिसंबर 2008

यदि तुम मेरे आलिंगन में मुग्ध नही हो..

तटिनी के तरंग - मंडल में
परम - तृप्ति पाता है निर्झर
सिन्धु - समालिंगन से पुलकित
आप्त - काम होती पयस्विनी

सहज मृदुल अन्योन्य - घात से
स्वर्पवने परिनंदित होतीं
संसृति के समस्त बिम्बों का
जीवन ही सापेक्ष - सत्य है

संसृति में प्रतिपल संगम से
सकल वस्तुए मत्त हो रहीं
ईश्वरीय यह विधि, शाश्वत ,
पर विप्रयुक्त , हा, हंत हमीं हैं

देख , स्वर्ग के आलिंगन से
परिशिखरी -पशु -दल पुलकित है
आनंदित ये जलधि -वीचियाँ
आलिंगन कर रहीं परस्पर

कलिकाओं का ह्रदय प्रफुल्लित
पुष्पों का सम्मान कर रहा
अवनि - वक्ष का परिस्पर्श कर
सूर्य - रश्मियाँ नृत्य - निरत हैं

शशि - मयूख सहसा ही आकर
जलधि - चुम्ब कर रही निरंतर
किंतु , निरर्थक , यदि तुम मेरे
आलिंगन में मुग्ध नही हो ।
-------------------------------
यह कविता महान अंगरेजी कवि
पी बी शेली की कविता " LOVE'S PHILOSOPHY "
पर आधारित है । यह मैंने वर्ष १९८८५ में
लिखी थी जब मैं B.A. का विद्यार्थी था ।

हिन्दी कविता की जो दुर्दशा इस समय हो रही
वह अत्यन्त कारुणिक है । छंद - मुक्त कविता
का प्रारंभ श्री सूर्यकांत त्रिपाठी निराला ने किया था
तो उनकी लेखनी में ऐसी शक्ति थी कि वह छंद - मुक्त
होते हुए भी कविता में रस - पूर्ण सौन्दर्य और गेयता बनाए
रखती थी । परन्तु आज हिदी कविता को उस स्तर पर
ला दिया गया है कि इस समय रामधारी सिंह दिनकर ,
महादेवी वर्मा , सुमित्रानंदन पन्त, हरिवंश राय बच्चन जैसे
कवि अनुपलब्ध हो चुके हैं ।
उर्वशी की सौन्दर्य - धारा और कुरुक्षेत्र के प्रचंड - पौरुष से
परिपूर्ण कविता की गंगा प्रवाहित करने वाले दिनकर
आज स्मृति - शेष हैं ।
इस स्थिति में मेरा प्रयास है की हिन्दी कविता प्रेमी
उस स्वर्ण युग की स्मृतियों से आनंदित हों जब हिदी
कविता विश्व की समस्त भाषाओं और साहित्य की गंगोत्री -
संस्कृत - कविता से अनुप्राणित और अनुसिंचित होती
अपने स्वर्ण - शिखर पर विराजमान होकर रस - धारा प्रवाहित
कर रही थी ।




---अरविंद पाण्डेय

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर हिन्दी कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  2. sir you are a really multitallented person ...i am really impressed by you ..i heartly fan of you ...you are a nice poeter and social man i like your poem vey much yadi tum mere aalingan main .......and all the best thx frm bottom of ma heart sir

    उत्तर देंहटाएं
  3. sir, this is a wonderful poem... It is really inspiring to see that you are following your passion parallely with your social responsibilities.

    उत्तर देंहटाएं

आप यहाँ अपने विचार अंकित कर सकते हैं..
हमें प्रसन्नता होगी...